World Water Day Celebration

  • WWD
  • Awareness Rally
  • Water Conservation Awareness Drive #Bundelkhand

World Water Day Celebration Event Date: 22-03-2018

22 मार्च 2018 को  विश्व जल दिवस के अवसर पर परमार्थ समाज सेवी संस्थान द्वारा जल-जन जोड़ो अभियान के तत्वाधान में झांसी के ईलाइट चैराहा में जल संरक्षण संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी में बोलते हुये परमार्थ समाज सेवी संस्थान के कार्यक्रम समन्वयक रामकिशोर ने कहा है कि प्रकृति ने हम सबको दिये सबसे अमूल्य उपहार पानी का अत्यधिक दोहन, बर्बादी एवं उचित प्रबन्धन एवं जल संग्रहण उचित व्यवस्था न होने के कारण समूची दुनियां के समक्ष पानी का संकट गहराता जा रहा है एवं दशक में हमारे देश के अन्दर भी पानी का संकट दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। देश के प्रमुख बड़े शहरों के साथ-साथ देश के कई हिस्सों में पानी की भयंकर कमी हो गयी है पीने के पानी को लाने के लिये लोगों को कई-कई किमी0 दूर जाना पड़ रहा है। भूगर्भीय जल स्तर लगातार रुप से कम हुआ है। पानी की कमी है। सामाजिक आर्थिक स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। उ0प्र0 राज्य के बुन्देलखण्ड क्षेत्र में 9 विकास खण्ड पानी की कमी से अतिदोहित की श्रेणी में आ गये है। यह एक अत्यंत चिंता का विषय है। पानी का बढ़ता संकट हम सबको यह चेतावनी दे अब अगर और अधिक पानी की बर्बादी हुई तो प्रकृति हमें माफ नही करेगी। जिसका खामियाजा हमारी आने वाली पीढियों को भुगतना पड़ेगा। इस अवसर पर संध्या सिंह ने पानी के संरक्षण सम्बर्धन की आवश्यकता पर जोर देते हुये वर्षा जल के संरक्षण सम्बर्धन को बढ़ाने के लिये स्वयं के स्तर से प्रयास करने तथा पानी की बर्बादी को रोकने, कम पानी में अपनी दैनिक एवं कृषि सम्बन्धी आवश्यकताओं की पूर्ति कर लेने की तकनीकि को अपनाने पर जोर दिया। गोष्ठी में उपस्थित मानव लोक संस्थान के प्रमुख अशोक काका ने कहा कि शहरों में पानी के संरक्षण के लिये रूफ टाप वाटर हार्वेस्टिंग को बुन्देलखण्ड क्षेत्र में प्राथमिकता के साथ शुरू करना चाहिये तथा शासन द्वारा निर्मित किये गये भवनों में इसकी शुरूआत कर आम जन तक इसे फैलाने के प्रयास किये जाने चाहिए। राज्य संयोजक मनीष कुमार ने पानी पर महिलाओं की प्रथम हकदारी की स्थापना पर जोर देते हुये कहा कि पीने के लिये पानी लाने की बात हो या अन्य दैनिक आवश्यकताओं के लिये पानी लाने का काम महिलाओं के ही भरोसे है तो क्यों नही महिलाओं की पानी पर प्रथम हकदारी स्थापित हो। इसके लिये महिलाओं के साथ-साथ पुरूषों को भी संवेदित करने की आवश्यकता है। 

इस अवसर पर जन जागरुकता रैली का आयोजन किया गया साथ ही साथ हस्ताक्षर अभियान का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग के छात्र/छात्राओं, परमार्थ संस्थान से प्रशंसा गुप्ता, सोनिया, अमरदीप, तारा यादव द्वारा सक्रिय सहभागिता की गयी।